रस Hindi grammar for competitive exams

Ras Hindi Grammar

इस अध्याय में हम निम्नलिखित बिंदुओं पर चर्चा करेंगे –

  • रस की परिभाषा   (Definition)
  • रस के प्रकार         (Types)
  • रस के तत्व          (Elements)

परिभाषा  (Definition)

किसी वाक्य को सुनकर या किसी दृश्य को देखकर जो अनुभूति होती है उसे ही रस कहते है,  जैसे- किसी चुटकुले को सुनकर हास्य, किसी मूवी को देखकर जो रोमांच आदि का अनुभव होता है, उसे ही रस कहते है.

 

रस के तत्व (Elements)

A) स्थायी भाव

B) विभाव

C) अनुभाव

D) संचारी भाव

A) स्थायी भाव

जो भाव हमारे अंदर जन्म से ही होते है, अर्थात इस प्रकार के भाव को हमे सिखने की आवस्यकता नहीं होती यह पहले से ही हमारे मस्तिष्क में होते है. जैसे- बच्चे को डराने से वह डरता है, खेलने से वह प्रशन्न होता है

मुख्यतः नौ प्रकार के है

स्थायी भाव             रस

1)रति           –        श्रृंगार

2)हास          –        हास्य

3)शोक         –        करुण

4)उत्साह      –        वीर

5)क्रोध         –        रौद्र

6)भय          –        भयानक

7)जुगुप्सा    –        वीभत्स

8)विस्मय    –        अद्भुत

9)निर्वेद       –        शांत

B )   विभाव

स्थायी भाव को जाग्रत या उद्दीप्त करने वाला तत्व अर्थात जिन तत्वों से स्थायी भाव उत्पन्न होता है एवं उसके बाद रस की अनुभूति होती है.

स्थायी भाव के भी तीन अंग है –

1 )   आलंबन

जिसके कारण स्थायी भाव उत्पन्न हो, जैसे – नायक, नायिका को देखकर

2 ) उद्दीपन

स्थायी भाव को तीव्र करने वाले तत्व, नायक, नायिका (आलम्बन) के जिस गुण के कारण स्थायी भाव तेज हो या प्रबल हो जाये.

जैसे – नायक, नायिका का सौंदर्य

3 ) आश्रय

जिस व्यक्ति के हृदय में भाव उत्पन्न हो, जैसे – नायक, नायिका (अर्थात जो देख रहा है )

C) अनुभाव

मन के भाव को व्यक्त करने वाली शारीरिक चेष्टाओं को  कहते है (स्थायी भाव के उत्पन्न होने के बाद शरीर में जो हरकत होती है)

1) कायिक

 जानबूझकर की गई हरकत, जैसे – आँख मारना, सीटी बजाना

2 ) सात्विक

अपने आप होने वाली हरकते, जैसे – काँपना, सांसे तेज हो जाना
इनकी कुल संख्या आठ है

D) संचारी भाव

जो भाव मन में थोड़े समय के लिए आते है और स्थायी भाव को पुष्ट करके गायब हो जाते है, जैसे – चिंता,शंका,गर्व,आलस्य
कुल संख्या 33 है

 

रस के प्रकार (Types)

रस के मुख्यतः नौ प्रकार होते है, परन्तु आधुनिक काल में वात्सल्य एवं शांति रस को भी प्रकार माना जा रहा है.

1)श्रृंगार

2)हास्य

3)करुण

4)वीर

5)रौद्र

6)भयानक

7)वीभत्स

8)अदभुत

9)शांत

10)वात्सल्य

Trick – दोहा

नीचे बताये गए दोहे से आप मुख्य ९ रस के नाम याद कर सकते है.

रौद्र भयानक शांत रस, करुण हास्य श्रृंगार ।

अदभुत वीर वीभत्स रस, नौ रस के श्रृंगार ।।

दसवां है वात्सल्य रस

3 thoughts on “रस Hindi grammar for competitive exams”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!